अनूपपुर जिला Anuppur District Important GK Fact | MP GK in Hindi

जिला अनूपपुर – म.प्र. की जिलेबार सामान्य ज्ञान (MP District Wise General Knowledge in Hindi)

जिले का नाम अनूपपुर (Anuppur District)
गठन 15 अगस्त 2003
तहसील अनूपपुर, कोतमा, जैतहरी, पुष्पराजगढ़
अनूपपुर जिले के साथ सीमाशहडोल, डिंडोरी
राज्यों के साथ सीमा छत्तीसगढ़
जनसँख्या (2011)7,49,237
साक्षरता दर (2011)68.88%

अनूपपुर जिले के बारे में | General knowledge of Anuppur district

Anuppur district GK

अनूपपुर, मध्यप्रदेश के 10 वें संभाग शहडोल में आता है। शहडोल संभाग में 3 जिले है –

  1. शहडोल जिला (Shahdol District)
  2. उमरिया जिला (Umariya District)
  3. अनूपपुर जिला (Anuppur District)

अनूपपुर जिले का इतिहास

  • अनूपपुर को 15 अगस्त 2003 में शहडोल जिले से प्रथक करके जिला बनाया था। अमरकंटक को पवित्र जिला घोषित किया गया था। 
    • इतिहास के अनुसार अमरकंटक चेंदि वंश और कल्‍चुरियों के अधीन रहा है। अनूपपुर जिला पहाड़ी जिला है . यहाँ की जलवायु गर्म तथा शीतोष्ण है.

Anuppur District GK Fact –

  • सूर्य कुण्‍ड को नर्मदा नदी का उदगम तथा सोन कुण्ड को सोन नदी का उदगम स्थल माना जाता है|
  • ग्रामीण पंचायत प्रशिक्षण संस्थान अनूपपुर जिले में है.

  • अमरकंटक का कर्ण मठ का निर्माण कल्‍चुरी नरेश कर्ण देव ने करवाया था.
    • अमरकंटक की पहाडी पर नागपुर के भोसले राजाओं ने नर्मदा मंदिर का निर्माण करवाया था|

  • मध्‍य प्रदेश के अनूपपूर जिले में देश का पहला इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय जनजाती विश्‍वद्यियालय की स्थापना 2008 में की गयी।
    • इसके लिए वर्ष 2007 में द्वारा अधिनियम पारित किया गया था।
    • इस विश्‍वविद्यालय का मुख्‍य उद्वेश्‍य जनजातियों के लिये उच्‍च शिक्षा और शोध के नये अवसर प्रदान करना है।

  • अमरकंटक के सोनमुडा नामक स्‍थान पर सोन नदी का उदगम स्‍थल तथा सन सेट पॉइंट आकर्षण का केन्‍द्र है|

  • अमरकंटक से निकलने वाली सोन नदी का वर्णन मेगस्थनीज ने हिरण्‍डय नाम से किया है|

  • सोन नदी की जल धारा में सोने के कण मिलने के कारण इसका नाम सोन पड़ा है .

  • अनूपपुर जिले की अमरकंटक पहाडियों से तीन-तीन नदियों नर्मदा, सोन तथा जोहिला का उदगम होता है
  • सूर्य कुण्‍ड – अमकंटक में नर्मदा के उदगम स्‍थल को सूर्य कुण्‍ड भी कहा जाता है|
    • लोक मान्‍यता है कि सूर्यकुण्‍ड के जल से स्‍नान करने से किसी भी प्रकार का चर्म रोग ठीक हो जाता है |

Anuppur Jile के प्रमुख उद्योग –

  • अनूपपूर जिले में खनिजों में कोयल, बॉक्‍साइड, फायरक्‍ले, पाये जाते है।
  • अनूपपुर जिले का कोटमा कोल मांइस के लिये, तथा बैंकट नगर अपने बीडी उद्योग के लिये जाना जाता है|
  • कोतमा कोयला मांइस के लिये प्रसिद्ध घना जंगल है |
  • अमलाई में निजी क्षेत्र का एशिया का सबसे बड़ा कागज कारखाना है,
    • जो बिरला ग्रुप ने लगाया है। जिसका नाम ओरिएंटल पेपर मिल है, जिसमें पुस्‍तक छापने का कागज बनाया जाता है|
  • अनूपपुर जिले के अमलाई में अमरकंटंक थर्मल पावर स्‍टेशन है| जिसकी क्षमता 210 मेगावाट है।

अनूपपुर जिले के प्रमुख आकर्षण केंद्र –

अमरकंटक –

मध्‍य प्रदेश के अनूपपूर जिले की पुष्‍प राजगढ तहसील के दक्षिणी पूर्वी भाग में मैकल की पहाडियों में स्थित अमरकंटक भारत के पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है|

यहाँ से पवित्र नर्मदा नदी के उदगम के साथ-साथ सोन तथा जोहिला नदी का भी उदगम होता है।

यह देश के विभिन्‍न भागों से तीर्थ यात्रियों को आकर्षित करता है।

  • यहां के दर्शनीय स्‍थलों में नर्मदा कुण्‍ड,
    • माई का मंदिर,
    • माई का हाथी,
    • कपिल धारा जल प्रपात,
    • दुग्‍ध धारा जल प्रपात,
    • सोन मुडा,
    • सिलहरा की गुफाएं,
    • पललेश्वरी मंदिर,
    • शबरी माता का मंदिर, आदि है |

महाकवि कालिदास ने भी अपनी कविताओं में अमरकंटक को तीर्थ रत्‍न कहा है। यहाँ पर चौबीस नवीन और प्राचीन मंदिर है।

प्राचीन मंदिरों को दसवी व ग्‍यारवी शताब्दि में कल्‍चुरी वंश के शासकों ने बनवाया था।

अमरकंटक में कबीर चबूतरा है, जहां पर कबीर ध्‍यान लगाया करते थे और यहां पर कपिल मुनि और मार्कण्‍डेय ऋषि के आश्रम होने का दाबा किया जाता है|

अमकंटक स्थित पातालेश्‍वर मंदिर, कर्ण मंदिर, शिव मंदिर, सूर्यकुण्‍ड, केशव नारायण मंदिर  पंच मठा मंदिर पुरातात्विक धरोहर के रूप में संरक्षित है|

शभूधारा एवं दुर्गा धारा –

अमरकंटक की पहाडी पर ही जंगल के मध्‍य नर्मदा जी की यह  दो सुन्‍दर जल धारायें है अमरकंटक एक हिल स्‍टेशन है  |

  • अमकंटक में सबरी कुम्भ उत्सव का आयोजन किया जाता है।
  • अमरकंटक के त्रिमुखी शिव मंदिर का शिखर कल्‍चुरी कालीन मंदिर जैसा है। इसे कल्‍चुरी शासक कर्ण देव  ने 1042 से 1122 ईश वी के मध्‍य बनवाया था|
  • अमरकंटक की पहाड़ी पर सर्वोदय जैन मंदिर है जो बिना लोहे सीमेंट की विशुद्ध मार्वल से निर्मित जैन मंदिर है|

कपिल धारा –

अमरकंटक के सूर्य कुण्‍ड से नर्मदा का उदगम होने से 6 किलो मीटर दूरी पर यह जल प्रपात है. यहाँ नर्मदा 100 फुट गहरे खण्‍डे में गिरती है जो मन मोहक जल प्रपात का निर्माण करती है|

शुभ मण्‍डल – भृगु ऋषि की घने जगल में स्थित गुफा यही पास के पारस विनायक और चंडी गुफाये स्थित है|

  • नर्मदा मंदिर में प्राचीन नर्मदा माई की मूर्ति प्रतिस्थापित की गई है उसी के सामने दूसरे मंदिर में सती की प्रतिमा विराजमान है|

  • राष्‍ट्रीय राज मार्ग 78 अनूपपुर जिले से होकर गुजरता है|
  • Anuppur Jile में ज्‍वेलसर महोदव मदिर भी है|

Madhya Pradesh District wise General Knowledge

मुरैनाभिण्डश्योपुरग्वालियर
दतियाशिवपुरीगुनाअशोकनगर
भोपालसीहोररायसेनविदिशा
राजगढ़उज्जैनदेवासशाजापुर
आगर मालवारतलाममंदसौरनीमच
इंदौरधारझाबुआअलीराजपुर
बड़वानीखरगोनखण्डवाबुरहानपुर
सागरदमोहछतरपुरपन्ना
टीकमगढ़निमाड़ीरीवासतना
सीधीसिंगरौलीशहडोलउमरिया
अनूपपुरजबलपुरनरसिंहपुरछिंदवाड़ा
बालाघाटमण्डलाडिंडोरीसिवनी
कटनीबैतूलहरदाहोशंगाबाद
अभी शेयर करो...

Leave a Comment

error: