District Hoshangabad जिला-होशंगाबाद Important GK Fact – MP GK in Hindi

Hoshangabad Jila Important GK: होशंगाबाद जिला नर्मदापुरम संभाग में आता है।

होशंगाबाद संभाग का नाम अगस्त 2008 में बदलकर नर्मदापुरम संभाग कर दिया गया।

जनसंख्या की दृष्टि से सबसे छोटा संभाग नर्मदापुरम संभाग है|

नर्मदापुरम संभाग में 3 जिले आते है –

  1. होशंगाबाद (Hoshangabad District)
  2. हरदा (Harda District)
  3. बैतूल (Betul District)

Hoshangabad Jila Important GK Fact Hindi

होशंगाबाद जिले का इतिहास –

  • प्राप्‍त प्रमाणों के अनुसार होशंगाबाद का मूल नाम नर्मदा पुरम था|
  • सुल्‍तान हुशंगशाह गौरी (माण्‍डू नरेश) के नाम पर इस शहर का नाम होशंगाबाद पडा|

  • मध्‍य प्रदेश का होशंगाबाद नगर प्रदेश का एक एतिहासिक नगर है। यहाँ के आदमगढ से मध्‍य पाषाण युगीन सभ्‍यता के अवशेष प्राप्‍त हुये है|
  • होशंगाबाद जिला नर्मदापुरम संभाग का मुख्‍यालय भी है|

  • मध्‍य प्रदेश की जीवन रेखा पुण्‍यसलेला माँ नर्मदा की गोद में बसे होशंगाबाद देश में एक प्रमुख तीर्थ नगरी के रूप में विशिष्‍ट पहचान है| होशंगाबाद की स्‍थापना 15 वी सदी में हूई थी।

जरूर पढ़ें:- म.प्र. डेली | साप्ताहिक | मंथली करंट अफेयर्स डाउनलोड पीडीएफ | MP Current GK

  • होशंगाबाद जिले के सूरज कुण्‍ड नामक स्‍थान से अनेक पशु जीवाश्‍म नर्मदा नदी के ग्रेवल से उपलब्ध हुये है।
  • बर्ष 1873 में सर्व प्रथम स्‍तन पोषी पशु, जीवाश्‍म, पाषाण उपकरणों की उपलब्धि नर्मदा घाटी होशंगाबाद जिले के भूतरा नामक स्‍थान से हूई थी।

  • होशंगाबाद में राज्‍य पुरातात्विक संग्रहालय संचालित है।

  • इटारसी में प्रदेश का सबसे बडा रेलवे जंक्शन है यही पर तिलक सिंधु प्राचीन शिव मंदिर है। जहाँ पर आज भी शिव की प्रतिमा पर सिंधूर छिड़का जाता है।

  • होशंगाबाद में सन 1850 में सेन्‍टजार्ज चर्च स्थित है।
  • होशंगाबाद जिले मे स्थित सतपुडा राष्‍ट्रीय उद्यान को प्रोजेक्‍ट टाइगर में शामिल किया गया है।

  • मध्‍य प्रदेश की खुली जैल कालोनी होशंगाबाद जिले में स्थापित की गयी थी।

  • जिले का बाबई नगर का नाम सन 2000 माखन नगर किया गया था जो माखनलाल चतुर्वेदी की जन्‍म स्‍थली थी। यहाँ पर मध्‍य प्रदेश का सबसे बडा कृषि क्षेत्र है।

  • मध्‍य प्रदेश में टंगस्‍टन होशंगाबाद के आगर गांव में उत्पादित होता है।

  • प्रदेश का एक मात्र सिक्‍योरिटी पेपर मिल कारखाना है।

यह भी जरूर देखें – म. प्र. की प्रमुख पत्र पत्रिकाएं और समाचार पत्र

  • होशंगाबाद के पवार खेडा में गैंहु अनुसंधान केन्‍द्र स्थित है और यही पर वर्ष 2016 में नवीन कृषि महाविद्यालय की स्‍थापना की थी ।

होशंगाबाद जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल – Hoshangabad Jila Important GK

आदमगढ –

नगर की बहारी सीमा में नर्मदा नदी के दक्षिण पश्चिम तट पर स्थित आदमगढ की विश्‍व विख्‍यात चित्रित शैलाकृत गुफाये है| इसे स्‍थल की महत्‍ता को देखते हुये भारतीय पुरातात्विक द्वारा आर बी जोशी तथा एम डी खरे के निर्देश में 1960 में उत्‍खनन कराया गया था।

  • इस स्थान से से मध्‍य पाषाणयुगीन अवशेष प्राप्‍त हुये है उत्‍खनन से यहां पर पुर्व पाषाण युगीन औजार, हस्‍तकुठा , विदारणी, अण्डिल, चक्रिक, उपकरण, खुरची आदि प्राप्‍त हुये है।

पचमढ़ी –

भोपाल से 210 किलो मीटर की दूरी पर होशंगाबाद जिले में स्थित पचमढ़ी मध्‍यप्रदेश का स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक केन्‍द्र और पर्यटक स्‍थल है जिसकी खोज 1857 में कैप्‍टन फारसे द्वारा की गयी| यह प्राकृतिक सौन्‍दर्य से परिपूर्ण पर्यटको का स्‍वर्ग है| पचमढ़ी के अंचल में 20 जलाशय और पांच जलप्रपात तथा 70 दर्शनीय स्‍थल है जिनके मध्‍य पर्यटक आंनद प्राप्‍त करते है| पचमढ़ी का नैसर्गिक सौन्‍दर्य एवं स्‍वास्‍थ्‍य वर्धक जलवायु अपना विशिष्‍ट स्‍थान रखती है|


प्रमुख दर्शनीय स्‍थल –

अप्सरा विहार, धूपगढ, जटाशंकर, पांडव गुफाएं, चौरागढ, एवं महोदव शिखर से सूर्य उदय व सूर्यास्‍त के दृष्‍य काफी मनोहर दिखाई देते है, केन्‍द्रीय एवं वन पर्यावरण मंत्रालय ने मध्‍य प्रदेश की पचमढ़ी को जैवमण्‍डल रिजर्व घोषित किया है यह प्रदेश का एक मात्र हिल स्‍टेशन है|

  • पर्यटकों का स्‍वर्ग कही जाने वाली पचमढ़ी में हिल स्‍टेशल धूपगढ चोटी, सन सेट पॉइंट, हॉडीखोह जम्‍मू दीप डचेस वाटर फॉल, रजत जलप्रपात, बोरी अभ्‍यारण, चौरागढ आदि स्‍थल है|

  • नर्मदा तट पर 750 वर्ष पुराना प्राचीन श्री जगदीश धाम है, श्रीराम जनकी मंदिर, खेडापति हनुमान, शीतला माता, हिंगलाज माता, नर्मदेश्‍वर मंदिर, पंचमुखी महादेव मंदिर, काले महादेव मंदिर है|
  • होशंगाबाद जिले के सोहागपुर में प्रचीन शिव मंदिर है, जो पलकमती नदी के किनारे स्थित है|


हथनौरा –

हाेशंगाबाद जिले के हथनौरा नामक ग्राम से मानव खोपडी का जीवाश्‍म 1942 में प्राप्त हुआ जिसकी पहचान होमोइरेक्‍टस से की गयी|


होशंगाबाद जिले में प्रदेश का पहला वायोस्‍फेयर रिजर्व है पचमढ़ी को सतपुडा की राजधानी कहा जाता है| पचमढ़ी की सर्वा‍धिक ऊँची धूप गढ की चोटी 1350 मीटर पर स्थित है|

Read More:म. प्र. के संभाग और जिले से सम्बंधित सामान्य ज्ञान

अन्य जिले भी देखें –

जबलपुरनरसिंहपुरछिंदवाड़ाबालाघाट
मण्डलाडिंडोरीसिवनीकटनी
इंदौरधारझाबुआअलीराजपुर
बड़वानीखरगोनखण्डवाबुरहानपुर
उज्जैनदेवासशाजापुरआगर मालवा
रतलाममंदसौरनीमचसागर
दमोहछतरपुरपन्नाटीकमगढ़
निमाड़ीग्वालियरदतियागुना
शिवपुरीअशोकनगरभोपालसीहोर
रायसेनविदिशाराजगढ़रीवा
सतनासीधीसिंगरौलीभिण्ड
मुरैनाश्योपुरबैतूलहरदा
होशंगाबादशहडोलउमरियाअनूपपुर

Latest Posts:-

अभी शेयर करो...

Leave a Comment