जिला रायसेन District Raisen महत्वपूर्ण MP GK – म.प्र. जिलेबार सामान्य ज्ञान

जिला रायसेन – म.प्र. की जिलेबार (MP District Wise GK in Hindi) सामान्य ज्ञान

जिले का नाम जिला रायसेन (District Raisen)
गठन 1956
तहसील रायसेन, गोहरगंज, बेगनगंज, गैरतगंज, सिलवानी, बरेली, उदयपुरा, बाड़ी, सुल्तानपुर
पड़ोसी जिलों के साथ सीमाविदिशा, सागर, होशंगाबाद, सीहोर
जनसँख्या (2011)13,31,597
साक्षरता दर (2011)72.98%
भौगोलिक स्थितिअक्षांतर स्थिति – 22o35′ से 23o45′ उत्तर
देशांतर स्थिति – 77o21′ से 78o47’पूर्व

रायसेन जिला, भोपाल संभाग के अंतर्गत आता है| भोपाल संभाग का मुख्यालय राजधानी भोपाल में ही है| इस संभाग के अंतर्गत 5 जिले आते है जो निम्न है-

Jila Raisen - MP GK Hindi - MP District Wise GK

रायसेन जिले का इतिहास History of Raisen District

मध्यप्रदेश के मालवा क्षेत्र की विंध्य पर्वत श्रृंखला में रायसेन जिला स्थित है। भोपाल के भारत संघ के ‘C’पार्ट राज्य बनने के पश्चात् रायसेन जिला मुख्यालय के साथ, 5 मई 1950 को अस्तित्व में आया।

मध्‍यकाल में रायसेन सिलहरी राजपूतों के अधिकार में था मुगल बादशाह बाबर के समय यहां का शासक शिलादित्‍य था। रायसेन मुगलों का एक महत्वपूर्ण प्रशासनिक केंद्र था।

तहसील – रायसेन (MP Districtwise GK in Hindi)

रायसेन जिले में रायसेन, गोहरगंज, बेगमगंज, गैरतगंज, सिलवानी, बरेली, उदयपुरा, बाड़ी, सुल्तानपुर तहसीलें है।

यह जरूर पढ़ें: म.प्र. की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं एवं समाचार पत्र 

भौगोलिक स्थिति – रायसेन जिले की भौगोलिक स्थिति

रायसेन जिले का क्षेत्रफल 8466 वर्ग किलोमीटर है। यह क्षेत्रफल की दृष्टि से मध्यप्रदेश का 08 वां जिला है। रायसेन भौगोलिक दृष्टि से अक्षांतर स्थिति – 22o35′ से 23o45′ उत्तर, देशांतर स्थिति – 77o21′ से 78o47’पूर्व पर स्थित है।

रायसेन जिला म. प्र. के 4 जिलों विदिशा, सागर, होशंगाबाद, सीहोर के साथ सीमा बनाता है। रायसेन जिले से राष्ट्रीय राजमार्ग NH – 12, NH – 69, NH – 86A, NH – 45 होकर गुजरते है।

जिले का तापमान गर्मियों में 44 डिग्री सेंटीग्रेड तक ऊपर तथा सर्दियों में 3 डिग्री सेंटीग्रेड तक नीचे लुढ़क जाता है। म.प्र. के अन्य जिलों की तुलना में यहाँ सामान्य से ज्यादा वर्षा होती है।

मिट्टियाँ एवं कृषि – रायसेन जिले में मिट्टियाँ एवं कृषि

रायसेन जिले में काली मिट्टी पाई जाती है। काली मिट्टी क्षारीय प्रकृति की होती है तथा इसमें लोहा और चुना पाया जाता है। इस मिटटी में नाइट्रोजन की कमी पायी जाती है। काली मिट्टी कपास की फसल के लिए सर्वाधिक उपयुक्त है। रायसेन जिले में काली मिट्टी का निर्माण ढक्कन ट्रैप या बेसाल्ट जैसी आग्नेय चट्टानों के अपक्षय द्वारा से हुआ है।

कृषि – म. प्र. के गेहूं उत्पादक जिलों में रायसेन जिला भी एक है।

पशुपालन – गोकुल महोत्सव का आयोजन जिलेभर में गायों की नस्लों और दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने किया जाता है। इसमें गोपाल पुरस्कार योजना के अंतर्गत पुरस्कार दिया जाता है।

रायसेन जिले की प्रमुख नदियाँ

  • बेतवा
  • नर्मदा
  • बरना
  • हलाली

बरना नदी का उद्गम रायसेन के बाड़ी तहसील से हुआ है। बरना नदी की कुल लम्बाई 96 KM है। बरना नदी नर्मदा नदी की एक सहायक नदी है। यह नर्मदा में समरीघाट के निकट गिरती है। बरना नदी पर एक बांध बनाया गया है।

हलाली नदी का उद्गम स्थल रायसेन जिला है। हलाली नदी का अर्थ क़त्ल की नदी। यह बेतवा नदी की सहायक नदी है।

सिंचाई एवं परियोजनाएं

हलाली परियोजना – इस परियोजना का निर्माण वर्ष 1973-76 हुआ था। हलाली परियोजना पर 945 मीटर लम्बा और 29.50 मीटर ऊँचा बांध है। इस परियोजना से प्रदेश की 27,627 हैक्टेयर भूमि की सिंचाई होती है। हलाली परियोजना से विदिशा और रायसेन जिले लाभान्वित होते है।

बरना परियोजना – रायसेन जिले में बरना नदी पर एक ग्रैविटी बाँध का निर्माण किया गया है। बरना परियोजना का वर्ष 1978 में हुआ। इस परियोजना से 60290 हैक्टेयर भूमि पर सिंचाई है। इस परियोजना से म. प्र. का रायसेन जिला लाभान्वित है।

वन एवं वन्यजीव – District Raisen

रायसेन जिले में 1334 KM आरक्षित वन क्षेत्र है। यहाँ उष्ण कटिबंधीय पर्णपाती वन पाए जाते है। रायसेन में सागौन, शीशम, नीम, पीपल आदि प्रकार के वृक्ष की बहुलता है। यहाँ बाघ, लियोपार्ड, जंगली कुत्ते, चीतल, लोमड़ी, लंगूर, भारतीय शैल अजगर आदि वन्य जीव पाए जाते है।

राष्ट्रीय उद्यान एवं अभ्यारण – रायसेन

रातापानी वन्यजीव अभ्यारण्य – म. प्र. के रायसेन जिले में रातापानी वन्यजीव अभ्यारण्य स्थित है। इसका क्षेत्रफल 825.907 वर्ग किलोमीटर है। यह वर्ष 2013 में प्रोजेक्ट टाइगर में शामिल किया गया।

खनिज सम्पदा एवं उद्योग – रायसेन जिले में

चुना पत्थर – रायसेन जिले में चुना पत्थर पाया जाता है। इससे सीमेंट बनायीं जाती है।

जरूर पढ़ें:- म.प्र. डेली | साप्ताहिक | मंथली करंट अफेयर्स डाउनलोड पीडीएफ | MP Current GK

रायसेन जिले में जनजाति

सहरिया जनजाति – रायसेन और उसके आसपास के जिले विदिशा, गुना, मुरैना, भिंड, शिवपुरी, ग्वालियर आदि में सहरिया जनजाति निवास करती है।

रायसेन जिले की बोलियां –

बोली – रायसेन जिले में मालवी भाषा प्रचलित है।

रायसेन जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल –

  • रायसेन दुर्ग
  • साँची का स्तूप
  • अशोक स्तंभ, साँची
  • भीमबैठका
  • भोजपुर शिव मंदिर
  • बौध्द विहार
  • ग्रेट बाउल
  • गुप्ता मंदिर

रायसेन के किले का निर्माण राजवसंती नामक राजा ने करावाया था। इस किले में इत्र महल भी है। यह मध्‍य युग में अभेद दुर्ग था। भोपाल के नबाब फैज मोहम्‍मद खां ने इस पर कब्‍जा किया था।

भीमबैठका में नवपाषाण काल की लगभग 600 गुफा है। युनेस्‍को ने इसे वर्ष 2003 में विश्‍व धरोहर सूची में शामिल किया है। यह आदिमानवों द्वारा बनाये गए शैलचित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है।

सबसे बडा स्‍तूप सांची में है। यहाँ पर एक मात्र बौद्ध विश्वविद्यालय भी है। यह 2012 में स्‍थापित किया गया था।

जिले के प्रमुख संग्रहालय –

आशापुरी संग्रहालय

Raisen DISTRICT के प्रमुख तथ्य –

  • म्रगेन्‍द्रनाथ की गुफाये प्रागैएतिहासिक कालीन है, जहाँ पर शैल चित्र है।
  • सांची बौद्ध जगत की पवित्र नगरी है।
  • भीमबैठका में आदिमानव के साक्ष्‍य मिले है।
  • विश्‍व का सबसे बडा शिवलिंग भोजपुर में है।
  • फतेहउल्ला साहेब की दरगाह है।
  • सांची अभिलेख से चंद्रगुप्‍त विक्रमादित्‍य के बारे में जानकारी मिलती है।
  • यहाँ के कुमरगांव से वेतवा नदी निकलती है। भोजपुर को पूर्व का सोमनाथ कहा जाता है।
  • मंडीदीप ओद्यौगिक क्षेत्र है।
  • रायसेन जिले में मौर्य सम्राटअशोक द्वारा निर्मित साँची बौद्ध स्तूप विश्व प्रसिद्ध है। जिसे यूनेस्को द्वारा वर्ष 1989 में विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया।
  • देश की पहली ऑप्टिकल फाइबर कंपनी मंडीदीप में लगाई गयी थी।
  • रातापानी (प्रोजेक्ट टाइगर) वन्यजीव अभ्यारण रायसेन जिले में है।
  • आचार्य रजनीश (ओशो) रायसेन जिले से सम्बंधित है।
  • रायसेन जिले के गोपालपुर में वन विभाग द्वारा म. प्र. का प्रथम तितली पार्क निर्मित है।

Read More:म. प्र. का सम्पूर्ण सामान्य ज्ञान | करंट GK | जी.के.क्विज आदि

आप इन जिलों के बारे में भी पढ़ सकते है-

मुरैनाभिण्डश्योपुरग्वालियर
दतियाशिवपुरीगुनाअशोकनगर
भोपालसीहोररायसेनविदिशा
राजगढ़उज्जैनदेवासशाजापुर
आगर मालवारतलाममंदसौरनीमच
इंदौरधारझाबुआअलीराजपुर
बड़वानीखरगोनखण्डवाबुरहानपुर
सागरदमोहछतरपुरपन्ना
टीकमगढ़निमाड़ीरीवासतना
सीधीसिंगरौलीशहडोलउमरिया
अनूपपुरजबलपुरनरसिंहपुरछिंदवाड़ा
बालाघाटमण्डलाडिंडोरीसिवनी
कटनीबैतूलहरदाहोशंगाबाद

Trending Posts

अभी शेयर करो...

Leave a Comment