जिला राजगढ़ District Rajgarh महत्वपूर्ण MP GK – म.प्र. जिलेबार सामान्य ज्ञान

जिला राजगढ़ – म.प्र. की जिलेबार (MP District Wise GK in Hindi) सामान्य ज्ञान

जिले का नाम जिला राजगढ़ (District Rajgarh)
गठन 1956
तहसील राजगढ़, खिचलीपुर, जीरापुर, ब्यावरा, पचौर, नरसिंहगढ़, सारंगपुर
पड़ोसी जिलों के साथ सीमाशाजापुर, सीहोर, आगर मालवा
जनसँख्या (2011)15,45814
साक्षरता दर (2011)61.21%
भौगोलिक स्थितिअक्षांतर स्थिति – 23o28′ से 24o16′ उत्तर
देशांतर स्थिति – 76o12′ से 77o15′ पूर्व

राजगढ जिला, भोपाल संभाग के अंतर्गत आता है| भोपाल संभाग का मुख्यालय राजधानी भोपाल में ही है| इस संभाग के अंतर्गत 5 जिले आते है जो निम्न है-

Jila Rajgarh - MP GK Hindi - MP District Wise GK

राजगढ़ जिले का इतिहास History of Rajgarh District

राजगढ की स्‍थापना सन 1766 में महाराजा गजसिंह ने अपने पुत्र राजसिंह के नाम पर की थी। यह मध्यस्थ राज्य का एक मुख्यालय तथा परमार वंश की शाखा थी। इस पर उमठ राजपूतों द्वारा शासन किया गया था।

तहसील – राजगढ़ (MP Districtwise GK in Hindi)

राजगढ़ जिले में राजगढ़, खिचलीपुर, जीरापुर, ब्यावरा, पचौर, नरसिंहगढ़, सारंगपुर तहसीलें है।

यह जरूर पढ़ें: म.प्र. की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं एवं समाचार पत्र 

भौगोलिक स्थिति – राजगढ़ जिले की भौगोलिक स्थिति

राजगढ़ जिले का क्षेत्रफल 6153 वर्ग किलोमीटर है। यह क्षेत्रफल की दृष्टि से मध्यप्रदेश का 25 वां जिला है। राजगढ़ भौगोलिक दृष्टि से अक्षांतर स्थिति – 23o28′ से 24o16′ उत्तर, देशांतर स्थिति – 76o12′ से 77o15′ पूर्व पर स्थित है।

राजगढ़ जिला म. प्र. के पश्चिमी भाग में स्थित है। राजगढ़ जिले के सीमा उत्तर में राजस्थान से, दक्षिण में म. प्र. के शाजापुर जिले से, दक्षिण-पूर्व में सीहोर जिले से, पश्चिम में आगर मालवा जिले से लगती है। राजगढ़ जिले से राष्ट्रीय राजमार्ग NH – 752B, NH – 752C, NH – 3, NH – 12 होकर गुजरते है।

जिले की जलवायु जंगल क्षेत्र की अधिकता होने के कारण अत्यंत स्वास्थ्यवर्धक है। राजगढ़ जिले में औसत बारिश 44 इंच तक होती है। राजगढ़ जिला मालवा पठार के उत्तरी किनारे पर स्थित है।

मिट्टियाँ एवं कृषि – राजगढ़ जिले में मिट्टियाँ एवं कृषि

  • काली मिट्टी
  • हल्के लाल रंग की मिट्टी

राजगढ़ जिले में काली और हल्के लाल रंग की मिट्टी पायी जाती है। इस राजगढ़ जिले में काली मिट्टी का निर्माण ढक्कन ट्रैप या बेसाल्ट जैसे आग्नेय चट्टानों के अपक्षय से हुआ है।

राजगढ़ जिले की प्रमुख नदियाँ

  • पार्वती नदी
  • नेवज नदी
  • कालीसिंध नदी

पार्वती नदी को ‘पारा’ नाम से भी जाना जाता है। इस नदी का उदगम विंध्यांचल की पश्चिमी श्रेणियों से होता है। पार्वती नदी मुरैना में बहती हुई चम्बल नदी में जाकर गिरती है।

नेवज नदी राजगढ़ जिले से निकलती है। नेवज नदी को शास्त्रों में निर्विन्ध्या कहा गया है।

सिंचाई एवं परियोजनाएं

कुण्डलिया परियोजना – यह परियोजना राजगढ़ जिले में कालीसिंध नदी पर निर्माणधीन है। कुण्डलिया परियोजना के द्वारा राजगढ़, आगर-मालवा जिले की 1 लाख 25 हजार हेक्टेयर भूमि की सिंचाई की जा सकेगी।

जरूर पढ़ें:- म.प्र. डेली | साप्ताहिक | मंथली करंट अफेयर्स डाउनलोड पीडीएफ | MP Current GK

वन एवं वन्यजीव – District Rajgarh

जिले में 57.197 वर्ग किलोमीटर आरक्षित वन क्षेत्र है। राजगढ़ जिले के वनों में बड़ी संख्या में सांभर, चीतल, नीलगाय मुख्य रूप से पाए जाते है। राज्य पक्षी दूधराज यहाँ के वनों में देखा जाता है।

राष्ट्रीय उद्यान एवं अभ्यारण – राजगढ़

नरसिंहगढ़ अभ्यारण्य –

खनिज सम्पदा एवं उद्योग – राजगढ़ जिले में

तांबा खनिज

मध्यप्रदेश में तांबा राजगढ़, जबलपुर, बालाघाट, होशंगाबाद, नरसिंहपुर, सागर, ग्वालियर, शिवपुरी तथा सीधी में पाया जाता है।

राजगढ़ जिले में जनजाति

  • सौर जनजाति
  • सहरिया जनजाति

राजगढ़ जिले में सौर और सहरिया जनजाति निवास करती है।

राजगढ़ जिले की बोलियां एवं मेले –

मालवी भाषा बोली जाती है।

राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल –

  • नरसिंहपुर का किला
  • कपिलेश्वर महादेव मंदिर सारंगपुर
  • जालपा माता मंदिर
  • श्यामजी सांका मंदिर
  • अंजनीलाल मंदिर
  • ब्यावरा मांडू-नरसिंहपुर
  • खोयरी महादेव मंदिर
  • वैष्णोदेवी मंदिर सुठालिया
  • श्री तिरुपति बालाजी मंदिर

जिले के प्रमुख संग्रहालय –

Rajgarh District के प्रमुख तथ्य –

  • राजगढ के ब्यावरा को राजमार्गौ का चौराहा कहा जाता है।
  • नरसिंहगढ़ के किले में गिन्‍नोरगढ़ के तोते प्रसिद्ध है।
  • धार्मिक स्थल माँ जलपा मंदिर और खोयरी महादेव मंदिर है। सर्वाधिक रेतीला भाग यही पर है।
  • राजगढ़ मानव विकास रिपोर्ट जारी करने वाला देश का पहला जिला है।
  • यह राजस्‍थान से लगा हुआ है इसलिए म. प्र. का सर्वाधिक रेगिस्तान वाला जिला है।
  • नरसिंहगढ का किला दीवान परस राम द्वारा बनवाया गया था। पूरा नगर किले में वसा है।
  • राजगढ़ जिले में चिड़ी खो, जामुन खो, अंधियार खो है। इसे मालवा का कश्मीर कहा जाता है। यहां पर जंगली जानवरो का संरक्षण है।
  • जाल्‍यामाता का मंदिर घने जंगलों में है धरेली पहाड़ी पर पशुपति नाथ का मंदिर है। .
  • मानव विकास प्रतिवेदन प्रस्तुत करने वाला पहला जिला है।
  • सारंगपुर में रानी रूपमती का मकबरा है।
  • ब्यावरा काली सिंध नदी पर स्थित है।
  • यहाँ पर नदियां पार्वती और घग्घर है।
  • राजगढ़ जिले से नेवज नदी का उदगम होता है। इसका प्राचीन नाम में निर्विन्ध्या था।

Read More:म. प्र. का सम्पूर्ण सामान्य ज्ञान | करंट GK | जी.के.क्विज आदि

आप इन जिलों के बारे में भी पढ़ सकते है-

मुरैनाभिण्डश्योपुरग्वालियर
दतियाशिवपुरीगुनाअशोकनगर
भोपालसीहोररायसेनविदिशा
राजगढ़उज्जैनदेवासशाजापुर
आगर मालवारतलाममंदसौरनीमच
इंदौरधारझाबुआअलीराजपुर
बड़वानीखरगोनखण्डवाबुरहानपुर
सागरदमोहछतरपुरपन्ना
टीकमगढ़निमाड़ीरीवासतना
सीधीसिंगरौलीशहडोलउमरिया
अनूपपुरजबलपुरनरसिंहपुरछिंदवाड़ा
बालाघाटमण्डलाडिंडोरीसिवनी
कटनीबैतूलहरदाहोशंगाबाद

Trending Posts

Leave a Comment

error: