जिला रतलाम District Ratlam महत्वपूर्ण MP GK – म.प्र. जिलेबार सामान्य ज्ञान

जिला रतलाम – म.प्र. की जिलेबार (MP District Wise GK in Hindi) सामान्य ज्ञान

जिले का नाम जिला रतलाम (District Ratlam)
गठन 1948
तहसील रतलाम, सैलाना, बाजना, जावरा, पिपलोदा, आलोट, ताल, रावटी
पड़ोसी जिलों के साथ सीमामंदसौर, धार, झाबुआ, उज्जैन (राजस्थान – बांसबाड़ा, चित्तौड़गढ़)
जनसँख्या (2011)14,55,069
साक्षरता दर (2011)66.8%
भौगोलिक स्थितिअक्षांतर स्थिति – 23o05′ से 23o55′ उत्तर
देशांतर स्थिति – 74o30′ से 75o42′ पूर्व

जिला रतलाम, उज्जैन संभाग के अंतर्गत आता है। मध्यप्रदेश में जबलपुर, इंदौर के बाद तीसरा बड़ा उज्जैन संभाग है।

उज्जैन संभाग में 7 जिले आते है-

  1. उज्जैन (District Ujjain)
  2. देवास (District Dewas)
  3. शाजापुर (District Shajapur)
  4. आगर मालवा (District Agar Malwa)
  5. रतलाम (District Ratlam)
  6. मंदसौर (District Mandsaur)
  7. नीमच (District Neemach)

MP Ratlam District GK Important Fact

जिला रतलाम जनरल नॉलेज - Ratlam Jila GK (MP GK )
MP General Knowledge

रतलाम जिले का इतिहास

रतलाम जिले को पहले रतनपुर नाम से जाना जाता था। इसकी स्थापना लगभग 450 वर्ष पहले महाराज रतनसिंह द्वारा की गयी थी। रतलाम को जून 1948 में म. प्र. का जिला घोषित किया तथा 1949 में इसे पुनर्गठित किया गया था।

तहसील – रतलाम (MP Districtwise GK in Hindi)

रतलाम जिले में आठ रतलाम, सैलाना, बाजना, जावरा, पिपलोदा, आलोट, ताल, रावटी तहसीलें है।

रतलाम जिले की भौगोलिक स्थिति/मौसम

रतलाम जिले का क्षेत्रफल 4861 वर्ग किलोमीटर है। यह क्षेत्रफल की दृष्टि से मध्यप्रदेश का 36 वां जिला है। मंदसौर भौगोलिक दृष्टि से अक्षांतर स्थिति – 23o05′ से 23o55′ उत्तर तथा देशांतर स्थिति – 74o30′ से 75o42′ पूर्व पर स्थित है।

Ratlam District की सीमा मध्यप्रदेश के 4 जिले उत्तर में मंदसौर, दक्षिण में धार एवं झाबुआ, पूर्व में उज्जैन जिले के साथ तथा पश्चिम में राजस्थान के 2 जिलों चित्तौड़गढ़ व बांसबाड़ा से लगती है।

रतलाम जिले से राष्ट्रीय राजमार्ग NH – 927A होकर गुजरता है।

जिले का तापमान गर्मियों में 45 डिग्री सेंटीग्रेड से ऊपर तक चला जाता है तथा सर्दियों में 3 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है। रतलाम जिले में साल की औसत वर्षा 135 से.मी.तक हो जाती है।

मिट्टियाँ एवं कृषि – रतलाम जिले में मिट्टियाँ एवं कृषि

काली मिट्टीरतलाम जिले में अधिकांश काली मिट्टी पाई जाती है।

कृषि – रतलाम जिले की प्रमुख फसल सोयाबीन है। सोयाबीन की खेती लगभग 210000 हेक्टेयर क्षेत्र पर की जाती है।

पशुपालन – रतलाम जिला दूध के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन रहा है। यहाँ पिछले पांच वर्षों से लगातार दूध उत्पादन में वृध्दि हो रही है। जिले में लगभग 2 लाख दुधारू गाय और भैसें है।

रतलाम जिले की प्रमुख नदियाँ

  • माही नदी
  • चम्बल नदी
  • करण नदी
  • कनेरी नदी

रतलाम जिला माही और चम्बल नदी के कछार में स्थित है।

सिंचाई एवं परियोजनाएं

चम्बल घाटी परियोजना यह म. प्र. की पहली नदी घाटी परियोजना है। इससे रतलाम जिले के अलावा मुरैना, भिंड, ग्वालियर, नीमच, मंदसौर जिलों में सिंचाई की जाती है।

माही परियोजना


जरूर पढ़ें:-


वन एवं वन्यजीव – District Ratlam

रतलाम जिले में उष्ण कटिबंधीय शुष्क पर्णपाती वन पाए जाते है। ऐसे वन क्षेत्र 25 से 75 से. मी. वर्षा वाले क्षेत्रों में पाए जाते है। जिले के वनों में खरमोर पक्षी देखे जाते है।

राष्ट्रीय उद्यान एवं अभ्यारण – रतलाम

सैलाना अभ्यारण्य – रतलाम जिले के सैलाना गांव में सैलाना खरमोर पक्षी अभ्यारण्य स्थित है। इस अभ्यारण की स्थापना 1983 में की गयी थी। इस का क्षेत्रफल 13 वर्ग किलोमीटर है|

खनिज सम्पदा एवं उद्योग – रतलाम जिले में

रतलाम जिले में मैंगनीज खनिज सम्पदा पाई जाती है। मध्यप्रदेश मैंगनीज खनिज भंडार की दृष्टि से पूरे देश में प्रथम स्थान पर है। प्रदेश में मैंगनीज खनिज का भंडार लगभग 196.2 लाख टन है। रतलाम के अलावा मैंगनीज खनिज मध्यप्रदेश के झाबुआ, धार, और इंदौर आदि जिलों में मिलती है।

उद्योग – रतलाम जिले में निम्न उद्योग स्थापित है –

  • चीनी मिट्टी उद्योग,
  • चीनी मिल जावरा (1934)
  • सूती कपडा उद्योग
  • स्टील प्लांट फैक्ट्री, आदि।

रतलाम जिले में जनजाति

भील जनजाति: मध्यप्रदेश की सबसे बड़ी जनजाति ‘भील’ रतलाम जिले और आसपास के क्षेत्र में निवास करती है। भील जनजाति मध्यप्रदेश के धार, झाबुआ, अलीराजपुर, बड़वानी, खंडवा आदि जिलों के अतिरिक्त राजस्थान, महाराष्ट्र और गुजरात राज्य में भी पायी जाती है।

रतलाम जिले की बोलियां एवं मेले –

रतलाम जिले क्षेत्र में मालवी भाषा प्रचलित है। मालवी विशुद्ध रूप से रतलाम के अलावा उज्जैन, इंदौर, देवास, और धार जिलों में प्रचलित है।

मेला – हरियाली अमावस्या कवलका माता का मेला


Trending Posts –


रतलाम जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल –

  • बैकुंठ धाम
  • कैक्टस गार्डन सैलाना
  • विरूपाक्ष महादेव मंदिर
  • बिबदौंड़ तीर्थ
  • सातरुंडा माता का मंदिर
  • गड़खांग माता मंदिर
  • लक्ष्‍मीनारायण का बिड़ला मंदिर
  • कालका माता का मंदिर

Ratlam DISTRICT के प्रमुख तथ्य –

  • रतलाम (Ratlam) की स्थापना कैप्‍टन वार्यविक ने 1829 में की थी।
  • रतलाम जिले (Ratlam District) में चंबल नदी बहती है।
  • जवरा में हुसैन टेकरी चमत्‍कारिक इलाज के लिये प्रसिद्ध है।
  • Ratlam District सैलाना पक्षी अभ्‍यारण खरमोर पक्षी के लिये प्रसिद्ध है।
  • सैलाना में  कैक्‍टस गार्डन है।
  • आलोट कें महोदव मंदिर और कल्‍पेश्‍वर मंदिर Ratlam Jile में है।
  •  रतलाम में मंदिर (टेम्पल इन Ratlam District) – लक्ष्‍मीनारायण का बिड़ला मंदिर, शिवग्‍वारा मदिर, धरोला मंदिर, बरबड मदिर , कालका माता का मंदिर|
  • बाजना रोड पर गडखंडी माता का मंदिर Ratlam District है|
  • रतलाम जिले के समीप तालाब को गंगासागर कहा जाता है|
  • रतलाम जिले में राष्ट्रीय अंगूर अनुसंधान केन्‍द्र है|
  • Ratlam District के रतलामी सेव नमकीन विश्‍व प्रसिद्ध है|
  • रतलाम जिला राजस्‍थान से लगा मध्‍य प्रदेश का पश्चिमी जिला है|
  • रतलाम जिले से राष्‍ट्रीय राजमार्ग एन एच 927ए  गुजरता है|
  • झार में शिव मंदिर है|
  • सोना उद्योग में अपनी शुध्दता के लिए रतलाम जाना जाता है।

आप इन जिलों के बारे में भी पढ़ सकते है-

मुरैनाभिण्डश्योपुरग्वालियर
दतियाशिवपुरीगुनाअशोकनगर
भोपालसीहोररायसेनविदिशा
राजगढ़उज्जैनदेवासशाजापुर
आगर मालवारतलाममंदसौरनीमच
इंदौरधारझाबुआअलीराजपुर
बड़वानीखरगोनखण्डवाबुरहानपुर
सागरदमोहछतरपुरपन्ना
टीकमगढ़निमाड़ीरीवासतना
सीधीसिंगरौलीशहडोलउमरिया
अनूपपुरजबलपुरनरसिंहपुरछिंदवाड़ा
बालाघाटमण्डलाडिंडोरीसिवनी
कटनीबैतूलहरदानर्मदापुरम

Latest Posts

अभी शेयर करो...

Leave a Comment