दृष्टांत अलंकार की परिभाषा एवं उदाहरण | Drishtant Alankar

दृष्टांत अलंकार की परिभाषा एवं उदाहरण | Drishtant Alankar

दृष्टांत अलंकार किसे कहते है? परिभाषा

Paribhasha: पहले कही हुई किसी बात को स्पष्ट करने के लिए उससे मिलती-जुलती दूसरी बात कही जाए, तब ‘दृष्टांत अलंकार’ होता है।

यह भी पढ़ सकते है – हिंदी साहित्य की प्रमुख पत्र-पत्रिकाएं, स्थान, वर्ष एवं उनके संपादक के नाम सहित

Drishtant Alankar ke Udaharan

उदाहरण – जपत एक हरिनाम के पातक कोटि बिलाय।

               लघु चिनगारी एकते घास ढेर जरि जाय।।

यह भी जरूर पढ़ें: समास | रस | पल्लवन | संक्षेपण और सम्पूर्ण हिंदी व्याकरण

आप नीचे दिए अलंकारों को भी पढ़ सकते है

अनुप्रास अलंकारयमक अलंकारश्लेष अलंकार
पुनरुक्ति अलंकारवक्रोक्ति अलंकारवीप्सा अलंकार
उपमा अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारव्यतिरेक अलंकारविभावना अलंकार
अतिशयोक्ति अलंकारउल्लेख अलंकारसंदेह अलंकार
भ्रांतिमान अलंकारअन्योक्ति अलंकारअनंवय अलंकार
Drishtant Alankarअपँहुति अलंकारविनोक्ति अलंकार
ब्याज स्तुति अलंकारब्याज निंदा अलंकारविरोधाभास अलंकार
अत्युक्ति अलंकारसमासोक्ति अलंकारमानवीकरण अलंकार

Latest Posts:

Leave a Comment

error: