Latanupras Alankar की Paribhasha, Example ( लाटानुप्रास ) – Hindi Grammar

लाटानुप्रास अलंकार की परिभाषा, उदाहरण – Latanupras Alankar

लाटानुप्रास अलंकार किसे कहते है?

Latanupras Alankar की Paribhasha :- किसी शब्द या वाक्यखंड की आवृत्ति दूसरी लाइन में उसी रूप में हो लेकिन दूसरी लाइन में वाक्य का अर्थ बदल जाये उसे लाटानुप्रास अलंकार कहते है|

पहचान :- लाटानुप्रास अलंकार के उदाहरण में लगभग 70% शब्द रिपीट होता है| (दूसरी बार वाक्य का अर्थ बदल जाता है|

लाटानुप्रास अलंकार के उदाहरण (Example)

उदा.- 1 पूत कपूत तो क्यों धन संचय

            पूत सपूत तो क्यों धन संचय| 

उदा.- 2 लड़का तो लड़का ही है| 

उदा.- 3  तेग बहादुर वे ही थे

             गुरु पदवी के पात्र समर्थ

             तेग बहादुर वे ही थे

             गुरु पदवी के जिनके अर्थ

उदा.- 4 वही मनुष्य है जो मनुष्य के लिए मरे 

उदा.- 5 माँगी नाव, न केवट आना|

माँगी नाव न, केवट आना|

अनुप्रास अलंकार के भेद (Type) :-

अनुप्रास अलंकार 5 प्रकार के होते है| परिभाषा एवं उदाहरण

  1. छेकानुप्रास अलंकार (Chhekanupras Alankar)
  2. वृत्यनुप्रास अलंकार (Vratyanupras Alanakar)
  3. श्रुत्यानुप्रास अलंकार (Shrutyanupras Alankar)
  4. लाटानुप्रास अलंकार (Latanupras Alankar)
  5. अन्त्यानुप्रास अलंकार (Antyanupras Alankar)

आप यह अलंकार भी पढ़ सकते है-

अनुप्रास अलंकारयमक अलंकारश्लेष अलंकार
पुनरुक्ति अलंकारवक्रोक्ति अलंकारवीप्सा अलंकार
उपमा अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारव्यतिरेक अलंकारविभावना अलंकार
अतिशयोक्ति अलंकारउल्लेख अलंकारसंदेह अलंकार
भ्रांतिमान अलंकारअन्योक्ति अलंकारअनंवय अलंकार
दृष्टांत अलंकारअपँहुति अलंकारविनोक्ति अलंकार
ब्याज स्तुति अलंकारब्याज निंदा अलंकारविरोधाभास अलंकार
अत्युक्ति अलंकारसमासोक्ति अलंकारमानवीकरण अलंकार

Related Posts:

Trending Posts:

Leave a Comment

error: