विरोधाभास अलंकार की परिभाषा, प्रमुख उदाहरण | Virodhabhas Alankar

विरोधाभास अलंकार की परिभाषा, उदाहरण

विरोधाभास अलंकार किसे कहते है?

Virodhabhas Alankar ki Paribhasha –  जहां पर संयोग में विरोध दिखाया जाए अर्थात जहां विरोध न होने पर भी विरोध दिखाया जाता है, वहां पर विरोधाभास अलंकार होता है।

विरोधाभास अलंकार के उदाहरण

उदाहरण –  तंत्रीनाद, कवित्त रस, सरस राग, रति रंग

                 अनबूड़े बूड़े तिरे जे बूड़े सब अंग।।

Udaharan – मीठी लगे अँखियान लुनाई।

आप यह अलंकार भी पढ़ सकते है-

अनुप्रास अलंकारयमक अलंकारश्लेष अलंकार
पुनरुक्ति अलंकारवक्रोक्ति अलंकारवीप्सा अलंकार
उपमा अलंकारप्रतीप अलंकाररूपक अलंकार
उत्प्रेक्षा अलंकारव्यतिरेक अलंकारविभावना अलंकार
अतिश्योक्ति अलंकारउल्लेख अलंकारसंदेह अलंकार
भ्रांतिमान अलंकारअन्योक्ति अलंकारअनंवय अलंकार
दृष्टांत अलंकारअपँहुति अलंकारविनोक्ति अलंकार
ब्याज स्तुति अलंकारब्याज निंदा अलंकारVirodhabhas Alankar
अत्युक्ति अलंकारसमासोक्ति अलंकारमानवीकरण अलंकार

Related Posts:

Trending Posts:

Leave a Comment

error: